Blog & Articles

TEDx 2017 (XLRI) – It Is Okay Not to Speak in English – Divya Prakash Dubey

TEDx 2017 (XLRI, Jamshedpur) मैं जब भी कहीं लैक्चर के लिए जाता हूँ और कमरे में बैठते लोगों से पूछता हूँ कि कितने लोग नेशनल अंथेम बजने पर खड़े हो जाते हैं तो ज़्यादातर लोगों…

Read More

राम औतार सिंह की चिट्ठी कुमारी डिम्पल के नाम

सेवा में, कुमारी डिम्पल, सविनय निवेदन है कि तुम हमें बहुत प्यारी लगती हो। हम ये चिट्ठी अपने ख़ून से लिखकर देना चाहते थे लेकिन क्या करें हम सोचे कहीं तुम हमारा ख़ून देखकर डर…

Read More

7 Reasons Not To Write A Book From FB Posts!

किसी भी किताब को लेकर एक curiosity होती है लेकिन जब आप अपनी फेसबुक पोस्ट को किताब बनाते हैं तो आप अपने हाथों पाठक की उस curiosity को मार देते हैं। पढ़ने वाले आपके दोस्त…

Read More

आप अपना पहला क़दम कब चल रहे हैं ?

अपना पहला क़दम आदमी दो बार चलता है । एक बार छोटे पर जब माँ बाप सहारा देकर हमें चलाते हैं । दूसरा पहला क़दम हम तब चलते हैं जब हमें पता चल जाता है…

Read More

Hindi Is Cool !

जब कभी ध्यान से अपने-आपको शीशे में देखता हूँ तो अब भी सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले उस लड़के का अक्स साफ नज़र आता है, जो खाकी पैंट और सफ़ेद शर्ट पहनकर शहर भर में…

Read More

Storybaazi – New Year Resolution

आपकी कांटैक्ट लिस्ट में कुछ लोग होते हैं न जिनसे साल भर कोई बात न हुई हो लेकिन नया साल आया नहीं और उनके मैसेज आना शुरू। कोई त्योहार नहीं छोड़ते ये लोग। हर साल…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 22 – प्रिय बेटी

प्रिय बेटी, तुम्हें चिट्ठी लिखते हुए एक अजीब सी घबराहट हो रही है। लग रहा है तुमसे पहली बार कोई बात करने जा रहा हूँ। नहीं नहीं इसलिए नहीं कि मेरे पास लिखने के लिए…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 21 – दुनिया के नाम एक चिट्ठी

दुनिया के नाम एक चिट्ठी … जब ये चिट्ठी तुम्हें मिलेगी तब तक शायद मैं न रहूँ। कम से कम मैं वैसा तो नहीं रहूँगा जैसा अभी इस वक़्त हूँ। बहुत दिनों से मैं कोई…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 20 – तुम न dear लिखो न dearest

तुम न dear लिखो न dearest, कुछ मत लिखो। चिट्ठी लिखते लिखते इतना बह क्यूँ जाते हो फालतू में इतनी फिलोसफी झाड़ने लगते हो। सीधे सीधे सब कुछ साफ साफ नहीं लिख सकते। अच्छा तुम्हारी…

Read More