Blog & Articles

संडे वाली चिट्ठी 8 – डियर बीवी

डीयर बीवी, मैं इंटरनेट पर हर हफ्ते में इतने ओपेन लेटर पढ़ता हूँ और ये देखकर बड़ा हैरान होता हूँ कि कभी किसी पति ने अपनी बीवी को कोई ओपेन लेटर क्यूँ नहीं लिखता। चिट्ठियों…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 7 – गाली

डीयर आदित्य धीमन, और उन तमाम लोगों के नाम जो सोशल नेटवर्क पर लड़कियों ‘पब्लिकली’ को माँ बहन की गाली देते हैं। आपको ये पढ़ने से पहले मैं अपने बारे में ईमानदारी से बता दूँ।…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 6 – तुम्हें dear लिखूँ या dearest ?

तुम्हें dear लिखूँ या dearest, ये सोचते हुए लेटर पैड के चार कागज़ और रात के 2 घंटे शहीद हो चुके हैं। तुम्हारी पिछली चिट्ठी का जवाब अभी तक नहीं मिला तो सोचा कि पिछले…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 5- डियर अमिताभ !

पिछले हफ्ते पहली किताब( टर्म्स एंड कंडिशन्स अप्लाई) आए हुए तीन साल पूरे हुए। तीन साल पहले ये चिट्ठी सही में लिख कर अमिताभ बच्च्न को पोस्ट की थी। हाँ कभी जवाब नहीं आया बल्कि…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 4- 12 पास हो गए तुम !

सुनो यार, 12th तो पास हो गए यार तुम! तुम्हारे बहुत से दोस्तों ने या तो इंजीन्यरिंग या मेडिकल की तैयारी शुरू कर दी होगी। और तुम, हाँ तुमसे ही बात कर रहा हूँ ।…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 3- डियर पापाजी

Dear पापा जी, कुछ दिन पहले आपकी चिट्ठी मिली थी। आपकी चिट्ठी मैं केवल एक बार पढ़ पाया। एक बार के बाद कई बार मन किया कि पढ़ूँ लेकिन हिम्मत नहीं हुई। मैंने आपकी चिट्ठी…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 2- Dear XYZ

Dear ‘X’YZ, मैं यहाँ ठीक से हूँ । बाक़ी सब भी ठीक से है । तुम कैसी हो। बाक़ी सब कैसा है। बाक़ी सब में कितना कुछ समा जाता है न, मौसम, तबीयत, नुक्कड़, शहर,…

Read More

संडे वाली चिट्ठी 1- dear J

डियर J, मुझे ये बिलकुल सही से पता है कि मैं अपने हर रिश्ते से चाहता क्या हूँ। मुझे क्या हम सभी को शायद ये बात हमेशा से सही से पता होती है। एक बना…

Read More

How To Get Published (Hindi)

देखिये वैसे हिन्दी में छपना कोई बड़ी बात नहीं है। दिक्कत बस एक ही है कि बहुत से publisher author funded किताबें छापते हैं और छाप कर आपको दे देते हैं । किताब को बेचने…

Read More